April 19, 2024 : 2:03 PM
Breaking News
लाइफस्टाइल

स्पाइना बायफिडा से जूझ रहे 6 साल के बच्चे ने जुटाए 56 लाख रुपए, देश के स्वास्थ्य कर्मियों को डोनेट किए

  • इंग्लैंड के फ्रेक्स ने विश्व युद्ध के हीरो कैप्टन टॉम मूरे से प्रेरित होने के बाद ये मुहिम शुरू की थी, मूरे ने रोजाना 100 कदम चलकर 153 करोड़ रुपए जुटाए थे
  • फ्रेक्स अपने घर के सामने ही वॉकर की मदद से रोजाना 10 मीटर चलते थे और स्वास्थ्य कर्मियों को सपोर्ट करते हुए यह धनराशि इकट्‌ठी की

दैनिक भास्कर

Apr 22, 2020, 12:38 PM IST

स्पाइना बायफिडा से जूझ रहे है 6 साल के फ्रेंक मिल्स ने लोगों की मदद के लिए 56 लाख रुपए जुटाए हैं। फ्रेक्स ने विश्व युद्ध के हीरो कैप्टन टॉम मूरे से प्रेरित होने के बाद ये मुहिम शुरू की थी। हाल ही में ब्रिटेन के 99 साल के पूर्व सैनिक कैप्टन टॉन ने रोजाना 100 कदम चलकर 153 करोड़ रुपए जुटाए थे। 

शुरुआती लक्ष्य 99 पाउंड रखा था

कैप्टन टॉम की उम्र 99 साल है इसलिए फ्रेंक ने अपना शुरुआती लक्ष्य 99 पाउंड जुटाना तय किया था। फ्रेक्स अपने घर के सामने ही वॉकर की मदद से रोजाना 10 मीटर चलते थे और स्वास्थ्य कर्मियों को सपोर्ट करते हुए यह धनराशि इकट्‌ठी की। यह रुपए नेशनल हेल्थ सर्विस (एनएचएस) फंड में जमा होगा। फ्रेंक की कहानी फेसबुक पर चर्चा का विषय बनीं। फेसबुक यूजर्स ने फ्रेंक की तस्वीरें और मुहिम की जानकारी अपनी पोस्ट में शेयर कीं तो यह वायरल हुईं। 

क्या है स्पाइना बायफिडा
ब्रिटेन के फ्रेंक स्पाइना बायफिडा से पीड़ित हैं यह गर्भावस्था के दौरान भ्रूण के में होने वाला डिफेक्ट है। गर्भावस्था के दौरान फोलिक एसिड न लेने पर भी ऐसे मामले सामने आते हैं। नतीजा बच्चे में रीढ़ की हड्‌डी पूरी तरह से विकसित नहीं हो पाती है और पीठ की ओर उभार के रूप में होती है।

कौन हैं कैप्टन टॉम जिनसे फ्रेंक प्रेरित हुए

कोरोना को हराने की जिद लिए कैप्टन टॉम ने गॉर्डन में 100 कदम चलकर 16 मिलियन पाउंड (करीब 153 करोड़ रुपए) जुटाए हैं। टॉम ने इंग्लैंड के बड़े खिलाड़ियों की चुनौती पर यह दौड़ पूरी की है। टॉम 30 अप्रैल को ही 100 साल के होने वाले हैं। उन्होंने अपने सभी मेडल से सजे एक ब्लेजर पहनकर व्हीलचेयर की मदद से 100 कदम चले। इस दौरान उन्होंने 25 मीटर (82 फीट) की दूरी तय की। टॉम के साथ उनके परिवार के लोग भी थे।

कैप्टन टॉम ने दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान भारत और म्यांमार में काम किया था

टॉम का लक्ष्य सिर्फ 1000 पाउंड (करीब 1 लाख रुपए) जुटाने का था, लेकिन उनके प्रशंसकों ने दिल खोलकर दान दिया। चुनौती पूरी करने के बाद टॉम ने कहा, ‘‘मुझे इतनी राशि जमा होने की उम्मीद बिल्कुल भी नहीं थी। आज मुझे गर्व हो रहा है। मैं बहुत अच्छा महसूस कर रहा हूं। उम्मीद है आपको भी बेहतर लग रहा होगा। यह संकट के बाद छट जाएंग और नया सूरज फिर उदय होगा।’’ प्रधानमंत्री बॉरिस जॉनसन ने भी टॉम की तारीफ की।

Related posts

सुखी रहना चाहते हैं तो मूर्ख व्यक्ति से दूर ही रहें, कभी भी अज्ञानी को ज्ञान देने की कोशिश न करें, वरना नुकसान आपका ही होना है

News Blast

दोस्तों से सहयोग मिलने, करियर में बेहतर तालमेल बनाने का हो सकता है दिन

News Blast

कोरोना से बचने के लिए थर्मल स्क्रीनिंग ही काफी नहीं क्योंकि जिनमें लक्षण नहीं दिखते उनका भी तापमान सामान्य आता है, इसलिए हर सावधानी बरतें :एक्सपर्ट

News Blast

टिप्पणी दें