July 16, 2024 : 3:25 AM
Breaking News
MP UP ,CG करीयर खबरें ताज़ा खबर मनोरंजन महाराष्ट्र राज्य राष्ट्रीय लाइफस्टाइल हेल्थ

किसान का बेटा बेचता था सब्जियां, अब बना सिविल जज; जानिए कैसे किया संघर्ष, कितने घंटे की पढ़ाई

सतना. एक किसान पिता और मजदूर मां के बेटे ने सिविल जज बनकर सतना जिले का नाम रोशन किया है. उनके संघर्ष की कहानी भी अनोखी है. उन्होंने इस पद पर पहुंचने के लिए कोई कोचिंग नहीं ली, बल्कि सेल्फ स्टडी के दम पर ये मुकाम हासिल किया. उन्होंने ओबीसी वर्ग में पूरे मध्य प्रदेश में दूसरी रैंक हासिल की है. सिविल जज बनकर जब वे गांव गए तो उनका जोरदार स्वागत किया गया.गौलतलब है कि सिविल जज के परिणाम घोषित हो गए. इसमें सतना के अमरपाटन के रहने वाले शिवाकांत कुशवाहा ने ओबीसी वर्ग में सेकंड रैंक हासिल की है. इससे पहले शिवाकांत चार बार सिविल जज की परीक्षा में बैठ चुके थे, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली थी. पांचवी और आखिरी बार में वे सफलता के पायदान पर पहुंचे. इनके संघर्ष की कहानी किसी को भी प्रेरणा दे सकती है.

सिविल जज शिवाकांत के पिता कुंजी लाल कुशवाहा का बेहद छोटा खेत है. इसमें वे सब्जियां उगाते हैं और बेचते हैं. शिवकांत भी पिता के साथ सब्जियों के ठेले पर बैठते थे. दूसरी ओर, उनकी मां घर चलाने के लिए मजदूरी करती थीं. उनके निधन के बाद परिवार की हालत और खराब हो गई. तीन भाई एक बहन में शिवाकांत कुशवाहा दूसरे नंबर पर हैं. उन्हें बचपन से ही पढ़ाई का शौक था और उन्होंने परिवार की खराब आर्थिक स्थिति को इसमें रुकावट नहीं बनने दिया. सब्जियों के साथ-साथ शिवाकांत सीजन में गन्ने के जूस का ठेला भी लगाते थे.

14 घंटे पढ़ाई रोज

इन परिस्थितियों में भी शिवाकांत ने हार नहीं मानी और लगातार पढ़ते रहे. उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा, हाई स्कूल और हायर सेकंडरी की परीक्षा अमरपाटन के सरदार पटेल स्कूल से पास की. कॉलेज की पढ़ाई अमरपाटन के ही शासकीय कॉलेज में की. इसके बाद वे एलएलबी करने रीवा के ठाकुर रणमत सिंह महाविद्यालय आए. यहां उन्होंने पढ़ाई के साथ-साथ कोर्ट में प्रैक्टिस की और जज की तैयारी  करने लगे.चार बार असफल होने के बाद भी उन्होंने हार नहीं मानी और पांचवी बार प्रदेश में ओबीसी वर्ग में द्वितीय स्थान प्राप्त किया. शिवाकांत ने इस पद पर पहुंचने के लिए रोज 14 घंटे पढ़ाई की. इस मौके पर शिवाकांत कुशवाहा ने कहा कि इस उपलब्धि के पीछे परिवार और शुभचिंतकों का बहुत बड़ा हाथ है. मैं सभी का आभार मानता हूं. परिवार ने जो सपना देखा था, वह पूरा हो गया.

Related posts

Anuppur News: सड़क हादसे में महिला की मौत के बाद परिजनों ने किया हंगामा

News Blast

गुड़गांव में 94 कोरोना पॉजिटिव केस मिले, कुल आंकड़ा 10636 पहुंचा

News Blast

नई रिसर्च: ट्रैफिक का शोर भी हार्ट के लिए खतरनाक, 5 डेसिबल तक शोर अधिक बढ़ने पर हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा 35% तक बढ़ जाता है

Admin

टिप्पणी दें