March 4, 2024 : 2:51 PM
Breaking News
अन्तर्राष्ट्रीय करीयर क्राइम खबरें खेल बिज़नेस ब्लॉग मनोरंजन महाराष्ट्र राज्य राष्ट्रीय लाइफस्टाइल हेल्थ

कोरोना से 2 साल में करीब 5 लाख मौतें, 4 करोड़ से अधिक केस; आखिर कब खत्म होगी कोविड-19 से भारत की जंग

नई दिल्ली. कोविड-19 महामारी (COVID-19 Pandemic)  के खिलाफ जारी भारत की लड़ाई को दो साल पूरे हो गए हैं, लेकिन वायरस से निपटने की यह जंग कब खत्म होगी इसको लेकर अभी भी अनिश्चितता बनी हुई है. देश इस समय महामारी की तीसरी लहर का सामना कर रहा है. पिछले दो वर्षों में देश ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के विभिन्न स्वरूपों का भी सामना किया है. महामारी की दूसरी भयावह लहर के दौरान जहां एक ओर वायरस के डेल्टा स्वरूप (Delta Variant) ने कहर बरपाया था, वहीं इसके ओमिक्रॉन स्वरूप (Omicron Variant) के कारण संक्रमण काफी तेजी से फैला.

आज से ठीक दो साल पहले 30 जनवरी 2020 को चीन के वुहान विश्वविद्यालय (Wuhan University) में सेमेस्टर की परीक्षा देने के बाद भारत लौटी एक छात्रा कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गयी थी. इसके बाद से भारत कोविड-19 की तीन लहरों का सामना कर चुका है, इस दौरान उत्परिवर्तन के कारण वायरस के कई स्वरूप सामने आए जिनमें से कुछ बेहद जानलेवा भी साबित हुए.

भारत में कोरोना से अब तक 4.94 लाख लोगों की मौत
आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, भारत में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के 4,10,92,522 मामलों की पुष्टि हो चुकी है, जबकि इस महामारी के कारण 4,94,091 लोगों की मौत हो चुकी है. भारतीय सार्स-सीओवी-2 जीनोमिक्स कंसोर्टिया (आईएनएसएसीओजी) के मुताबिक भारत में पिछले दो वर्षों के दौरान कोरोना वायरस के सात स्वरूप ऐसे मिले हैं, जो चिंता का विषय हैं. इनमें अल्फा, बीटा, गामा, डेल्टा, बी.1.617.1 और बी.1.617.3 के अलावा एवाई सीरीज़ और ओमिक्रॉन स्वरूप शामिल हैं.

भारत में महामारी के खत्म होने पर असमंजम कायम
महामारी से निपटने के लिए स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन करने और टीकाकरण अभियान को तेज करने की सलाह दी है, लेकिन अभी तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि भारत में महामारी कब खत्म होगी. विश्व स्वास्थ्य संगठन की दक्षिण-पूर्व एशिया की क्षेत्रीय निदेशक डॉ़ पूनम खेत्रपाल ने कहा, “हम अब भी महामारी के बीच में हैं. इसलिए वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने और लोगों की जान बचाने पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए.”

 

कोरोना की मौजूदा लहर के लिए ओमिक्रॉन जिम्मेदार
इनमें से कोरोना वायरस के डेल्टा और ओमिक्रॉन स्वरूप को घातक माना गया है. महामारी की दूसरी लहर के दौरान कोरोना के डेल्टा स्वरूप से बड़ी संख्या में लोग संक्रमित हुए और इसके कारण ही हजारों लोगों की मौत हुई. देश में कोविड-19 की मौजूदा लहर के लिए कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन स्वरूप को जिम्मेदार माना जा रहा है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दो जनवरी तक 1.5 लाख नमूनों का जीनोम अनुक्रमण किया गया है, जिनमें से 71,428 नमूनों में चिंताजनक स्वरूपों की पुष्टि हुई है

 

Related posts

व्हाइट हाउस में कोरोनावायरस से प्रभावित लोगों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए शांति पाठ हुआ, राष्ट्रपति ट्रम्प ने पुजारी को धन्यवाद दिया

News Blast

जल बूस्टर पर अफसरों को बंधक बनाने का मामला:पुलिस ने भाजपा पार्षद पर दर्ज SC/ST एक्ट की FIR  निरस्त करने से किया इनकार; अब लेंगे हाईकोर्ट की शरण

News Blast

इजराइल से पहली बार कमर्शियल विमान अबू धाबी पहुंचा, राष्ट्रपति ट्रम्प के दामाद जेरेड कुश्नर के नेतृत्व में कई अफसर भी पहुंचे

News Blast

टिप्पणी दें