January 27, 2023 : 7:23 AM
Breaking News
MP UP ,CG खबरें ताज़ा खबर राज्य राष्ट्रीय हेल्थ

MP News: तेजी सै फैल रही लंपी, दो दिन में आठ नए जिले आए चपेट में, सीएम शिवराज ने की आपात बैठक

naidunia
भोपाल (राज्य ब्यूरो)। गोवंशी पशुओं में होने वाली लंपी बीमारी प्रदेश में तेजी से फैल रही है। अब प्रदेश के 26 जिलों में इसका संक्रमण है। दो दिन के भीतर आठ नए जिले इस बीमारी की चपेट में आए हैं। प्रभावित जिलों में अभी तक 7686 मामले सामने आए हैं। 101 पशुओं की मौत हुई है। 5432 स्वस्थ हो चुके हैं। बीमारी तेजी से बढ़ने की वजह यह है कि प्रभावित जिलों से दूसरे जिलों में पशुओं का आवागमन नहीं रुक रहा है। मवेशियों को अलग रखने (आइसोलेट) में लापरवाही हो रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार सुबह मंत्रालय में पशु चिकित्सा विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर रोकथाम के इंतजामों की समीक्षा की।

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब 26 जिलों में बीमारी पहुंच चुकी है, इसलिए बहुत सतर्क रहने की जरूरत है। दूसरे राज्यों में जिस तरह से संक्रमण बढ़ा है। पशु मर रहे हैं वैसा हाल अपने यहां नहीं बनना चाहिए। गंभीर चिंता की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि कोई भी जानकारी छिपाएं नहीं। पशुपालकों को जागरूक करें। बचाव के उपायों की जानकारी पशुपालकों को देने के निर्देश उन्होंने दिए हैं। संक्रमित पशुओं के आवागमन पर सख्ती से रोक लगाने के लिए भी कहा है। बता दें कि प्रदेश में इसका पहला मामला अगस्त के पहले सप्ताह में रतलाम में सामने आया था। अगस्त में सात जिलों में ही यह बीमारी फैली थी, जबकि इस महीने 19 जिलों में बीमारी फैल चुकी है।

बचाव के लिए यह करें

 

 

— संक्रमित पशुओं को स्वस्थ पशुओं से अलग रखें।

 

 

– कीटनाशकों से माध्यम से पशुओं के कीट, किलनी, मक्खी और मच्छरों को नष्ट करें

 

 

— संक्रमित क्षेत्र से अन्य क्षेत्र में पशुओं का आवागमन रोकें।

 

 

— पशुओं के बाजार, मेले और क्रय-विक्रय रोकें।

 

यह हैं लक्षण
हल्का बुखार, मुंह से अत्यधिक लार आना। आंख एवं नाक से पानी बहना। पैरांें में सूजन, दूध उत्पादन कम होना। शरीर में दो से पांच सेंटीमीटर तक की गठानें।

 

समय रहते नहीं उठाए कदम : कमल नाथ 

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने ट्वीट कर कहा है कि प्रदेश सरकार कई दिनों से चीता इवेंट में लगी रही। प्रदेश में गायों की सुध नहीं लगी। समय रहते लंपी बीमारी को रोकने के लिए कदम नहीं उठाए गए। कई जिलों में गायें तड़प कर मर रही हैं। सड़क दुर्घटना में भी गायें मर रही हैं, लेकिन प्रदेश सरकार को सुध नहीं है।

 

 

Related posts

मध्यप्रदेश के सिवनी में जिस दिन निर्माण पूरा होना था, उसी दिन बह गया पुल; जालंधर में सोढल बाबा का दरबार सजा, कल शुभारंभ

News Blast

घरेलू विवाद में पति ने पत्नी को चाकू से गोदा, गोंदिया रेफर

News Blast

जबलपुर में ननद और भाभी मिलकर चलाती हैं डेयरी, सालाना 2 करोड़ रु का टर्नओवर; ऑर्डर से डिलीवरी तक सबकुछ ऑनलाइन

News Blast

टिप्पणी दें