May 29, 2024 : 1:52 PM
Breaking News
लाइफस्टाइल

आज सुबह 4.30 बजे कपाट खुले बद्रीनाथ के कपाट, रावल ईश्वर प्रसाद नंबूदरी ने की विशेष पूजा

  • ऋषिकेश की श्री बद्रीनाथ पुष्प सेवा समिति द्वारा सजाया गया है बद्रीनाथ धाम
  • बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने के बाद माता लक्ष्मी को परिसर स्थित मंदिर में स्थापित किया जाएगा
शशिकांत साल्वी

शशिकांत साल्वी

May 15, 2020, 07:27 AM IST

शुक्रवार सुबह 4.30 बजे कृष्ण अष्टमी तिथि धनिष्ठा नक्षत्र में बद्रीनाथ धाम के कपाट खोल दिए गए। इसके लिए तैयारियां 3 बजे से शुरू हो गई थीं। यहां पहली पूजा पीएम नरेंद्र मोदी के नाम से हुई। पूजा में देश के कल्याण और आरोग्यता की प्रार्थना की गई। इस समय कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन है, ऐसे में कपाट खुलते समय यहां 30 से भी कम लोग उपस्थित थे। 

बद्रीनाथ धाम के कपाट सुबह 4.30 पर खुल गए हैं।

उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के मीडिया प्रभारी डॉ. हरीश गौड़ ने बताया कि गुरुवार को पांडुकेश्वर से रावल ईश्वर प्रसाद नंबूदरी और धर्माधिकारी भुवनचंद्र उनियाल के साथ आदि गुरु शंकराचार्यजी की गद्दी, उद्धवजी, कुबेरजी की डोली, गाडू घड़ी यानी तिल के तेल का कलश बद्रीनाथ धाम पहुंच गए। ऋषिकेश की श्री बद्रीनाथ पुष्प सेवा समिति द्वारा 10 क्विंटल से अधिक फूलों से मंदिर को सजाया गया है।

गुरुवार सुबह रावल ईश्वर प्रसाद नंबूदरी और धर्माधिकारी भुवनचंद्र उनियाल पांडुकेश्वर से बद्रीनाथ के लिए रवाना हुए थे।

यात्रा में सभी ने पालन किया सोशल डिस्टेसिंग का

इस साल लॉकडाउन की वजह से पांडुकेश्वर से बद्रीनाथ यात्रा में रावल नंबूदरी, धर्माधिकारी, डिमरी पंचायत के प्रतिनिधि, सीमित संख्या में हकूकधारियों ने सोशियल डिस्टेसिंग का ध्यान रखा और मास्क पहने। इस बार लाम बगड़ और हनुमान चट्टी क्षेत्र में इन देव डोलियों ने विश्राम नहीं किया और ना ही इन स्थानों पर भंडारे का आयोजन हुआ। बद्रीनाथ धाम पहुंच कर भगवान बद्रीविशाल के जन्म स्थान लीला ढूंगी में रावल नंबूदरी द्वारा पूजा-अर्चना की गई।

सुबह 3 बजे से शुरू हो जाएगी कपाट खोलने की प्रक्रिया

डॉ. गौड़ ने बताया कल सुबह 3 बजे से कपाट खोलने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। कुबेरजी, उद्धवजी गाडू घड़ा दक्षिण द्वार से मंदिर परिसर में रखा जाएगा। इसके बाद रावल, धर्माधिकारी, हकहकूकधारियों की उपस्थिति में कपाट खोलने हेतु प्रक्रिया शुरू होगी। ठीक 4.30 बजे कपाट खोले दिए जाएंगे। कपाट खुलने के बाद लक्ष्मी माता को परिसर स्थित मंदिर में स्थापित किया जाएगा। इस साल कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन है। जोशी मठ के एसडीएम कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार कपाट खोलते समय लगभग 30 लोग ही उपस्थित रहेंगे।

कपाट खुलने के बाद लक्ष्मी माता को परिसर स्थित मंदिर में स्थापित किया जाएगा।

Related posts

वर्कआउट करते समय मास्क हटा सकते हैं लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें, मास्क लगाएं तो एक्सपर्ट की ये 5 बातें ध्यान रखें क्योंकि खतरा टला नहीं है

News Blast

व्रत-त्योहार: व्रत-त्योहार योगिनी एकादशी पर भगवान विष्णु के साथ ही करनी चाहिए पीपल के पेड़ की पूजा

Admin

चंद्र-मंगल के शुभ से 6 राशियों के लिए फायदे वाला रहेगा दिन, धन लाभ के योग भी हैं

News Blast

टिप्पणी दें