April 19, 2024 : 1:47 PM
Breaking News
लाइफस्टाइल

क्या अल्कोहल सेनेटाइजर और फेस मास्क भी कोरोनावायरस से नहीं बचा पाता ?

  • कोरोना वायरस फ्लू के मुकाबले ज्यादा खतरनाक क्योंकि इसके फैलने की न तो सही वजह सामने आई और न वैक्सीन तैयार हो पाई
  • पहले से बीमार बुजुर्गों को कोरोनावायरस से संक्रमित होने की आशंका ज्यादा

दैनिक भास्कर

Mar 06, 2020, 10:25 AM IST

हेल्थ डेस्क. क्या अल्कोहल सेनेटाइजर और फेस मास्क भी कोरोनावायरस से नहीं बचा पाते। ऐसे कई सवाल लोगों के मन में चल रहे हैं और सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे हैं। इन सवालों के जवाब में वैज्ञानिकों का तर्क कुछ और ही है। जानिए ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब…

भ्रम : अल्कोहल वाले जेल और सेनेटाइजर कोरोनावायरस को खत्म नहीं करता।
सच : संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा हाथों से ही रहता है, इसलिए बार-बार हाथ धोने की सलाह दी जाती है। यह सच है कि अल्कोहल जैल नोरोवायरस और राइनोवायरस को खत्म नहीं कर पाता। लेकिन अल्कोहल जैल के बारे में ऐसा नहीं है। लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसिन की प्रोफेसर सैली ब्लूमफील्ड के मुताबिक, कोरोनावायरस का आवरण जिस तरह का है उस पर अल्कोहल जैल अटैक करने में समर्थ है। जिन सैनेटाइजर में अल्कोहल की मात्रा 60 फीसदी से अधिक होती है वे माइक्रोब्स को खत्म करने में असरदार साबित होते हैं। लेकिन ध्यान रखें इसे कभी भी घर पर न तैयार करें, स्किन को नुकसान पहुंच सकता है।

भ्रम : कोरोनावायरस मौसमी फ्लू से ज्यादा खतरनाक नहीं है।
सच : ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। औसतन फ्लू वायरस संक्रमित मरीजों में मौत की दर 0.1 फीसदी रिकॉर्ड की गई है जबकि कोरोनावायरस के मामले में यह आंकड़ा इससे भी ज्यादा है। कोरोनावायरस फ्लू के मुकाबले तेजी से फैलता है। इससे पीड़ित एक इंसान औसतन 2 से अधिक लोगों को संक्रमित करता है। यह इसलिए भी फ्लू के मुकाबले ज्यादा खतरनाक है क्योंकि अब तक बढ़ते मामलों की न तो सही वजह सामने आई है और न ही इसकी वैक्सीन तैयार की गई है।

भ्रम: फेस मास्क वायरस से बचाता है।
सच: फेस मास्क खांसी और छींक के दौरान मुंह से निकली लार की बूंदों को रोकने का काम करता है। लेकिन संक्रमण कर हर मामले में जरूरी नहीं कि संक्रमण किसी की खांस या छींक के जरिए ही फैले। यह आंख के जरिए भी शरीर में पहुंच सकता है।

भ्रम : कुत्ते ओर बिल्ली से भी वायरस का संक्रमण फैल सकता है।
सच : कुछ समय पहले हॉन्गकॉन्ग में एक ऐसा मामला सामने आया था जब एक कुत्ते को पॉजिटिव पाया गया था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पालतु जानवरों में भी कोरोनावायरस का संक्रमण हो सकता है। लेकिन पालतू जानवरों में अब तक ऐसा कोई प्रमाण नहीं मिला है जिसके आधार पर कहा जा सके कि यह संक्रमण के बाद इन्हें बीमार कर सकता है।

भ्रम :  कोरोनावायरस केवल बुजुर्गोँ को संक्रमण करता है।
सच : वुहान यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल में कोरोनावायरस से पीड़ित 138 मरीजों पर अध्ययन किया गया है। रिसर्च में समाने आया कि जो बुजुर्ग पहले से बीमार है उन्हें संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है। इसके अलावा जो लोग मरीजों के संपर्क में हैं उनमें भी इसका खतरा ज्यादा है, जैसे चिकित्साकर्मी।

Related posts

यूक्रेन में फंसे भारतीयों को लेकर आएगी एयर इंडिया

News Blast

मात्र 6 दिन में आयुर्वेदिक दवा ‘फीफाट्रोल’ से कोरोना का मरीज संक्रमणमुक्त हुआ; पढ़ें पूरी केस स्टडी

News Blast

3 साल में आती है पुरुषोत्तमी एकादशी, इस व्रत से मिलता सालभर की सभी एकादशी व्रत का पुण्य

News Blast

टिप्पणी दें