July 24, 2024 : 5:30 PM
Breaking News
लाइफस्टाइल

महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में है भगवान परशुराम का 300 साल पुराना मंदिर

दैनिक भास्कर

Apr 25, 2020, 08:11 PM IST

महाराष्ट्र के मुंबई-गोवा नेशनल हाईवे 17 के बीच रत्नागिरी जिले में पिथे परशुराम नाम का छोटा गांव हैं। ये चिपलुन से करीब 10 किमी दूर है। इस गांव को भगवान परशुराम का गांव कहते हैं। बताया जाता है कि यह वही जगह है जहां समंदर को पीछे करने के लिए भगवान परशुराम ने अपना फरसा फेंका था।

  • आज यहां करीब 300 साल पुराना भगवान परशुराम का मंदिर है। जिसके बारे में कहा जाता है कि इसका निर्माण ब्रह्मेन्द्र स्वामी ने किया था। इस मंदिर के ठीक पीछे माता रेणुका का भी मंदिर है। परशुराम मंदिर परिसर में एक हनुमान मंदिर भी है जिसे समर्थ रामदास स्वामी ने बनवाया था।

इस तीर्थ से जुड़ी बातें

  1. इस गांव के पास 10 किमी की दूरी पर मौजूद चिपलुन को परशुराम की भूमि कहा जाता है।
  2. ऐसी मान्यता है कि भगवान परशुराम ने खुद को गुरु के सामने सच्‍चा संन्‍यासी सिद्ध करने के लिए अपनी पूरी भूमि दान कर दी।
  3. उस वक्त पश्चिमी घाट पर समंदर का पानी चढ़ रहा था। परशुराम ने भगवान वरुण से कोंकण और मालाबार से पानी हटाने कहा, लेकिन वो नहीं माने।
  4. इस बात से गुस्साए परशुराम ने समंदर पर अपना फरसा फेंका। परशुराम के गुस्‍से के कारण समुद्र ने अपने को पीछे खींच लिया।
  5. जहां फरसा गिरा वह स्‍थान परशुराम ने अपने निवास के लिए चुन लिया। आज यह जगह पिथे परशुराम के नाम से जानी जाती है।

Related posts

1962 में भी हुए थे 2020 जैसे ग्रहण और भारत-चीन के बीच हुआ था विवाद, उस समय भी शनि मकर राशि में ही था, दो चंद्र और एक सूर्य ग्रहण हुआ था

News Blast

मंदिर के एक सेवक के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद रथयात्रा में शामिल सेवकों और पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों का टेस्ट, 4 हेल्थ सेंटर बनाए

News Blast

रीवा में दो ओवर ब्रिज के नीचे मिले बम, पर्ची में लिखा था UP के सीएम योगी आदित्यनाथ का नाम

News Blast

टिप्पणी दें