June 15, 2024 : 4:11 PM
लाइफस्टाइल

हमेशा खुश रहना चाहते हैं तो दुख देने वाली बातों को भूलकर आगे बढ़ें

  • एक व्यक्ति ने संत से कहा कि मैं बहुत दुखी हूं, मुझे खुशी कैसे मिल सकती है, संत ने उसे एक बड़ा पत्थर दिया और कहा कि इसे उठाकर मेरे साथ चलो

दैनिक भास्कर

May 01, 2020, 05:29 PM IST

एक लोक कथा के अनुसार पुराने समय में एक व्यक्ति बहुत दुखी था। उसके जीवन की परेशानियां खत्म ही नहीं हो रही थीं। वह निराश रहने लगा। एक दिन उसके गांव में एक संत आए। वह व्यक्ति संत से मिलने पहुंचा और बोला कि महाराज मैं बहुत दुखी हूं, जीवन में हमेशा खुश कैसे रह सकते हैं, कृपया मुझे बताएं मुझे खुशियां कैसे मिल सकती हैं?

संत ने उससे कहा कि ठीक हैं, मैं तुम्हें ये राज बता दूंगा, लेकिन पहले तुम्हें साथ जंगल में चलना होगा। संत ने एक बड़ा पत्थर उठाया और उस व्यक्ति को पकड़ा दिया। संत ने उससे कहा कि ये पत्थर लेकर मेरे साथ चलो।

बड़ा पत्थर उठाकर व्यक्ति संत के साथ चलने लगा। कुछ ही देर में पत्थर के वजन से व्यक्ति का हाथ दर्द करने लगा, लेकिन वह कुछ बोला नहीं और साथ चलते रहा। कुछ दूर चलने के बाद उसने संत से कहा कि महाराज अब मैं ये पत्थर उठाकर आगे नहीं चल सकता हूं, मेरे हाथ दर्द कर रहे हैं। संत ने कहा कि ठीक ये पत्थर यहीं रख दो।

पत्थर रखते ही व्यक्ति को राहत मिल गई। संत बोले कि बस यही है खुश रहने का राज। जिस तरह तुम एक पत्थर को उठाकर ज्यादा दूर तक नहीं चल सके, ठीक उसी प्रकार तुम अपने दुखों के बोझ को उठाकर तुम खुश नहीं रह सकते हो। व्यक्ति को ये बात समझ आ गई, उसने संत को प्रणाम किया और दुखों को छोड़कर आगे बढ़ने का संकल्प लिया।

प्रसंग की सीख

इस प्रसंग की सीख यह है कि हम जब तक दुख देने वाली बातों को याद करते रहेंगे, तब तक हमें खुशियां नहीं मिल सकती हैं। बीते दिनों की दुख देने वाली बातों को भूलकर आगे बढ़ना चाहिए।

Related posts

कुछ नया सीखने, सकारात्मक परिणाम मिलने और अपनी कोशिशों में थोड़ी गति लाने का रहेगा दिन

News Blast

शंका की वजह से मन रहता है अशांत, युद्ध की शुरुआत में दुर्योधन के मन शंका थी कि वह युद्ध जीतेगा या नहीं, अशांति से बचने के लिए खुद रखें भरोसा

News Blast

धूप में खड़े होने से नहीं मरता है कोरोनावायरस और बिना खांसे 10 सेकंड तक सांस रोकना संक्रमण न होने की गारंटी नहीं

News Blast

टिप्पणी दें