May 29, 2024 : 2:26 PM
Breaking News
लाइफस्टाइल

ईरान में अफवाह फैली कि, मीथेनॉल अल्कोहल कोरोनावायरस को खत्म करता है;, लोग ने सही मानकर पीया, नतीजा; 300 की मौत

  • ईरानी भाषा में वायरल हुए मैसेज में लिखा था- ब्रिटेन में व्हिस्की और शहद से कोरोना पीड़ित ठीक हुए, आप अल्कोहल पीएं यह वायरस को मारता है
  • क्लीनिकल टॉक्सिकोलॉजिस्ट डॉ नुट एरिक के कहा, ईरान में आने वाले दिनों में इसके घातक परिणाम दिखाई देंगे

दैनिक भास्कर

Mar 27, 2020, 08:06 PM IST

हेल्थ डेस्क. ईरान में कोरोनावायरस से ज्यादा कहर बरपाने का काम एक दवा ने किया है। दवा का नाम है मीथेनॉल। इसकी शुरुआत सोशल मीडिया पर फेक न्यूज से हुई। अलग-अलग पोस्ट में दावा किया गया कि मीथेनॉल कोरोनावायरस को खत्म करती है। लोगों ने इसे कोरोना पीड़ितों को देना शुरू किया और नतीजा यह रहा है कि अब तक 300 मौत सिर्फ इस दवा से हुई हैं। ईरान की मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अब तक इस दवा 300 से अधिक मौत हो चुकी हैं और 1 हजार से अधिक मरीजों की हालत नाजुक है।ऐसा तब है जब ईरान में अल्कोहल पीने पर प्रतिबंध है। 

5 साल के बच्चे को दी गई मेथेनॉल, अब वह देख नहीं सकता

ईरान की एक हेल्थ केयर वर्कर के मुताबिक, एक 5 साल का बच्चा मेरे सामने था। वह सिर्फ प्लास्टिक का डायपर पहने था। झूठी खबरों को पढ़ने के बाद माता-पिता ने उसे जहरीली मीथेनॉल दे दी। बच्च अब अंधा हो गया है और उसे कुछ नहीं दिख रहा।  

यह मैसेज हो रहा है वायरल

ईरान की सोशल मीडिया पर एक मैसेज बहुत तेजी से वायरल हो रहा है। फारसी में लिखे संदेश में कहा गया है, ”एक टैबेलॉयड अखबार के मुताबिक, फरवरी में कोरोनावायरस से पीड़ित ब्रिटेन के एक स्कूल टीचर और दूसरे लोगों को व्हिस्की और शहद से ठीक किया गया है। अपने हाथों को अल्कोहल आधारित हैंड सेनेटाइजर से साफ करें और अल्कोहल पीएं इससे शरीर में मौजूद वायरस मर जाता है। ”

ईरान में अब तक 2200 से अधिक मौत

ईरान में अबतक कोरोना के 29 हजार से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। 2200 से अधिक मौत हो चुकी हैं। मिडिल ईस्ट के किसी देश में वायरस से मौत का यह बड़ा आंकड़ा है। दुनिया के बड़े विशेषज्ञों का कहना है, ईरान काफी डरा हुआ है, चुनाव के पहले वह इस मामले पर खुलकर बात नहीं कर रहा है। 

मीथेनॉल शरीर को कैसे पहुंचाता है नुकसान

मीथेनॉल को सूंघा या टेस्ट नहीं किया जा सकता। ऐसा करने पर यह धीरे-धीरे शरीर के अंगों और मस्तिष्क को डैमेज करता है। सीने में दर्द, आंखों से दिखना बंद होना, उबकाई आना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। गंभीर स्थिति में मरीज कोमा में भी जा सकता है। ईरान के डॉक्टर जावेद अमिनी कहते हैं, अल्कोहल को पीने से शरीर का पाचन तंत्र सेनेटाइज और साफ हो जाता है, यह बात एक अफवाह है। 

इसके घातक परिणाम होंगे

क्लीनिकल टॉक्सिकोलॉजिस्ट डॉ नुट एरिक हॉवडा मेथेनॉल की जहरीली खूबियों पर रिसर्च कर चुकी हैं। उनका कहना है कि ईरान में जो स्थिति अभी बनी है आने वाले दिनों में इसके घातक परिणाम दिखाई देंगे। जो लोग अभी भी मेथेनॉल पी रहे हैं उनमें और जहर बढ़ता जाएगा। इससे वायरस नहीं खत्म होता।

Related posts

चंद्रमा पर शनि की टेढ़ी नजर पड़ने से बढ़ सकती है 6 राशियों की मुश्किलें

News Blast

कोरोना संक्रमण होने पर कफ सिरप लेने से बचें, इसमें मौजूद केमिकल वायरस की संख्या बढ़ा सकता है

News Blast

गरीब देशों में 1 अरब लोगों में संक्रमण का खतरा, 30 लाख मारे जा सकते हैं; इनमें पाकिस्तान और बांग्लादेश शामिल

News Blast

टिप्पणी दें