March 4, 2024 : 9:10 PM
Breaking News
लाइफस्टाइल

खेरताबाद में घटेगी गणेश प्रतिमा की ऊंचाई, हर साल यहां देश की सबसे ऊंची मूर्ति स्थापित होती है

  • 2019 में 61 फीट के मुकाबले इस साल काफी छोटी रहेगी प्रतिमा
  • मई से शुरू हो जाता है मूर्ति निर्माण, लेकिन लॉकडाउन के कारण सब बंद
शशिकांत साल्वी

शशिकांत साल्वी

May 14, 2020, 11:03 AM IST

कोरोनावायरस और लॉकडाउन का असर इस साल के त्योहारों पर भी पड़ने वाला है। इस साल 22 अगस्त से दस दिवसीय गणेश उत्सव शुरू होगा। हैदराबाद जिले में स्थित खेरताबाद का गणेश उत्सव देशभर में प्रसिद्ध है। यहां देश में सबसे ऊंची गणेश प्रतिमा स्थापित की जाती है। इस साल यहां गणेश उत्सव पर कोरोना का असर साफ दिख रहा है।

हैदराबाद इस समय रेड जोन में है। इस कारण यहां सख्त लॉकडाउन है। पिछले साल यहां एक करोड़ की लागत से 61 फीट ऊंची, करीब 50 टन वजनी मूर्ति स्थापित की गई थी। 2020 में गणेश प्रतिमा की ऊंचाई घटने की संभावनाएं बन रही हैं।

खेरताबाद में गणेश प्रतिमा की ऊंचाई कम रहेगी

चर्चा तो ये है कि अगर लॉकडाउन और कोरोना का असर थोड़ा और आगे बढ़ता है तो संभवतः यहां की परंपरा के विपरीत बहुत छोटी प्रतिमा ही स्थापित की जा सकती है। हालांकि, समिति ने इस पर अभी कोई फैसला नहीं लिया है। लेकिन, ये तो लगभग तय है कि इस साल गणेश उत्सव का स्वरूप पिछले सालों की तरह भव्य नहीं होगा।

तीन महीने पहले होता है काम शुरू

2019 में 61 फीट ऊंची मूर्ति बनाने का काम मई में शुरू हो गया था। लॉकडाउन के कारण अभी तक मूर्ति बनाने का काम शुरू नहीं हो सका है। ना ही कोई अन्य काम हो पाया है। खेरताबाद गणेश उत्सव के आयोजक एस. राजकुमार ने बताया कि गणेश उत्सव के समय जैसे हालात रहेंगे, उसके अनुसार यहां गणेश प्रतिमा स्थापित की जाएगी।

लॉकडाउन के बाद गणेशोत्सव कार्यक्रम तय होगा

यहां हर साल सबसे ऊंची प्रतिमा यहां स्थापित की जाती है, लेकिन इस बार परिस्थितियां विपरीत हैं। अभी मूर्ति की ऊंचाई के संबंध में कुछ भी तय नहीं हुआ है। लॉकडाउन खुलने के बाद सारी स्थितियों पर विचार किया जाएगा और आयोजन की रुपरेखा तैयार की जाएगी।

60-70 हजार लोगरोज करते थे दर्शन

पिछले साल यहां गणेश उत्सव के दौरान 60-70 हजार लोग रोज दर्शन के लिए पहुंच रहे थे। गणेशजी की मूर्ति खुले स्थान और ऊंचे मंच पर विराजित की जाती है। समिति के 200 से ज्यादा सदस्य भक्तों की सुरक्षा में लगे हुए थे, लेकिन इस साल कोविड-19 की वजह से हालात बदल गए हैं। शासन के नियमों के अनुसार ही गणेश उत्सव का आयोजन किया जाएगा।

1954 से हर साल गणेश उत्सव मना रहे

खैरताबाद गणेश उत्सव समिति का गठन 1954 में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एस. शंकरय्या ने किया था। तब से हर साल यहां गणेश की भव्य प्रतिमा स्थापित की जाती है। एस. शंकरय्या के बाद उनके भाई एस. सुदर्शन के साथ एस. राजकुमार और उनका परिवार गणेश उत्सव का आयोजन करता है।

समिति कर रही है जरूरतमंद लोगों की मदद

खेरताबाद गणेश उत्सव समिति इन दिनों जरूरतमंद लोगों की मदद करने में जुटी हुई है। एस. राजकुमार ने बताया कि समिति के सदस्य रोज सुबह-शाम करीब 600-700 लोगों को भोजन उपलब्ध करा रहे हैं। आगे भी ये सेवा कार्य जारी रहेगा। 

Related posts

US में पहला वैक्सीन लगवाने वाले इयान बोले- 103 डिग्री बुखार चढ़ा, बेहोश हुआ और रिकवर होने में 24 घंटे लगे

News Blast

92 फीसदी मामलों में कोरोना पीड़ित से घरवालों को नहीं हुआ संक्रमण, ऐसे मरीजों से संक्रमित होने का खतरा मात्र 8 फीसदी

News Blast

अगर हर मौसम ठंडे रहते हैं आपके हाथ तो टेंशन या लो ब्लड प्रेशर की हो सकती है समस्या, एक्सपर्ट से जाने इसके 5 कारण

News Blast

टिप्पणी दें