April 15, 2024 : 5:15 PM
Breaking News
लाइफस्टाइल

घर पर फेसमास्क साफ करने के 4 तरीके, साबुन, प्रेशर कुकर और इस्त्री की मदद से इसे दोबारा इस्तेमाल करने लायक बनाएं

  • डिस्पोजेबल मास्क को दोबारा धोकर इस्तेमाल न करें, रुमाल को भी मास्क की तरह उपयोग कर रहे हैं तो इसे भी मास्क की तरह धोएं

दैनिक भास्कर

Apr 18, 2020, 11:10 AM IST

नई दिल्ली. मास्क को दोबारा इस्तेमाल कैसे करें और घर पर इसकी धुलाई कैसे करे, इसे समझाने ने केंद्र सरकार के ऑफिशियल कोरोना विशेष ट्विटर हैंडल #IndiaFightsCorona से एक वीडियो जारी किया गया है। वीडियो में बताया गया कि कई तरह से फेसमास्क को घर पर साफ करके दोबारा इस्तेमाल किया जा सकता है।

फेस मास्क धोने के 4 तरीके

  • गर्म पानी से धोएं : मास्क को साबुन और गर्म पानी से धोएं। अब इसे धूप में कम से कम 5 घंटे तक सूखने के लिए छोड़ दें।
  • धूप नहीं तो प्रेशर कुकर का इस्तेमाल करें : पानी में नमक मिलाएं। करीब 15 मिनट तक गर्म पानी या प्रेशर कुकर में मास्क डालकर उबालें। अब उसे सूखने के लिए छोड़ दें।
  • इस्त्री का उपयोग भी कर सकते हैं: अगर प्रेशर कुकर नहीं है तो मास्क को साबुन से धोएं। इसे सुखाने के लिए इस्त्री का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • डिस्पोजेबल मास्क न उबालें : कभी भी डिस्पोजेबल मास्क को न उबालें और न ही साफ करें। उसके अंदर ऐसे कई तत्व होते हैं जो धुलाई से खराब हो सकते हैं।

कौन सा मास्क वायरस से कितना बचाव करता है

N95 मास्क

यह कोरोनावायरस जैसे संक्रमण से बचाव के लिए सबसे बेहतर मास्क है। यह आसानी से मुंह और नाक पर फिट हो जाता है और बारीक कणों को भी नाक या मुंह में जाने से रोकता है। यह हवा में मौजूद 95 प्रतिशत कणों को रोकने में सक्षम है इसलिए इसका नाम N95 पड़ा है। कोरोनावायरस के कण डायमीटर में 0.12 माइक्रॉन जितने होते हैं, जिसकी वजह से यह काफी हद तक मदद करता है। यह बैक्टीरिया, धूल और परागकणों से 100 फीसदी बचाता है।

सर्जिकल मास्क

N95 मास्क उपलब्ध न होने पर यह बेहतर विकल्प है। यह वायरस से 95 फीसदी बचाव करता है। वहीं बैक्टीरिया, धूल और परागकणों से 80 फीसदी तक सुरक्षा देता है। ये ढीले फिटिंग वाले होते हैं, इसलिए जब भी इसे लगाएं अच्छे से नाक और मुंह को कवर करें।

FFP मास्क

यह मास्क तीन कैटेगरी में उपलब्ध है। FFP1, FFP2 और FFP3, इसमें FFP3 सबसे बेहतर है। यह अतिसूक्ष्म कणों से बचाता है। FFP मास्क वायरस से 95 फीसदी और बैक्टीरिया-धूल-परागकणों से 80 बचाव करता है।

एक्टिवेट कार्बन मास्क

इसका इस्तेमाल आमतौर पर गंध रोकने के लिए किया जाता है। यह वायरस से बचाव करने में नाकाफी है क्योंकि महज 10 फीसदी तक ही सुरक्षा देता है। वहीं, बैक्टीरिया, धूल और परागकणों को रोकने में 50 फीसदी ही बचाव करता है

कपड़े वाला मास्क

यह वायरस से बचाव नहीं करता। न ही विशेषज्ञ इसे लगाने की सलाह देते हैं। आमतौर पर लोग इसे घर पर ही बनाते हैं। यह बैक्टीरिया, धूल और परागकण से 50 फीसदी ही बचाव करता है। इसे एक बार इस्तेमाल करने के बाद डिस्पोज करना बेहद जरूरी है।

स्पंज मास्क

यह मास्क वायरस से बिल्कुल नहीं बचाता। बैक्टीरिया और धूल से महज 5 फीसदी ही बचाव करता है। एक्सपर्ट भी इसे लगाने की सलाह नहीं देते।

Related posts

3 शुभ योग बनने से 6 राशियों के लिए खास रहेगा अगस्त का आखिरी शनिवार, धन लाभ होने की संभावना है

News Blast

क्या कोरोना से पीड़ित गर्भवती महिला को ब्रेस्टफीड कराना सही है, डब्ल्यूएचओ से जानिए ऐसे कई सवालों के जवाब

News Blast

मोतियाबिंद में अब ऑपरेशन की जरूरत नहीं होगी; एस्पिरिन से बने आईड्रॉप से निकाला जाएगा, हर साल 20 लाख केस आते हैं

News Blast

टिप्पणी दें