May 29, 2024 : 1:28 PM
Breaking News
लाइफस्टाइल

एंटीवायरल नेजल स्प्रे से कोरोना को रोकने की तैयारी, ब्रिटिश शोधकर्ताओं ने कहा- mCBMs ड्रग मास्क की तरह; यह नाक में वायरस की एंट्री ब्लॉक करता है

  • ब्रिटेन की सेंट एंड्रयू यूनिवर्सिटी और फार्मा कंपनी न्यूमेजेन ने मिलकर तीन अलग-अलग तरह की रिसर्च की
  • लैब में साबित हुआ कि मल्टीवैलेंट कार्बोहाइड्रेट बाइंडिंग मॉलीक्यूल्स वॉयरस की एंट्री को ब्लॉक करता है

दैनिक भास्कर

Apr 30, 2020, 10:04 PM IST

ब्रिटिश शोधकर्ताओं कहना है कि एंटीवायरल नेजल स्प्रे का इस्तेमाल किया जाए तो कोरोनावायरस को फेफड़ों तक पहुंचने से रोका जा सकता है। रिसर्च में इसकी पुष्टि भी हुई है। ब्रिटेन की सेंट एंड्रयू यूनिवर्सिटी में अलग-अलग तरह कोरोना का संक्रमण रोकने पर 3 तरह की रिसर्च की गई। रिसर्च में सामने आया कि mCBMs ड्रग की मदद से कोरोना का रास्ता ब्लॉक किया जा सकता है।

नाक में ही वायरस को रोकने की तैयारी

रिसर्च टीम के प्रमुख प्रो. गैरे टेलर का कहना है कि आमतौर पर एंटीवायरल्स ड्रग वायरस के कुछ हिस्सों पर काम करते हैं लेकिन हमने जो ड्रग इस्तेमाल किया है वह कोरोना को नाक की कोशिकाओं में घुसने से रोकता है। इस तरह कोरोनावायरस नाक के जरिये फेफड़ों तक नहीं पहुंच पाता।

मास्क की तरह काम करता है ड्रग
शोधकर्ताओं में रिसर्च में न्यूमिफिल और मल्टीवैलेंट कार्बोहाइड्रेट बाइंडिंग मॉलीक्यूल्स (mCBMs) नाम के ड्रग का इस्तेमाल किया। न्यूमिफिल ड्रग आमतौर पर सांस से जुड़े रोगों में इस्तेमाल किया जाता है। प्रो. गैरे के मुताबिक, रिसर्च के दौरान हमने हर दूसरे दिन नेजल स्प्रे का प्रयोग किया। mCBMs ड्रग नाक के रिसेप्टर्स पर मास्क की तरह काम करता है और वायरस की एंट्री को ब्लॉक करता है।

बचाव और इलाज दोनों में कारगर mCBMs
शोधकर्ताओं के मुताबिक, रिसर्च में पाया गया कि मल्टीवैलेंट कार्बोहाइड्रेट बाइंडिंग मॉलीक्यूल्स नए कोरोनावायरस की संख्या घटाता है चाहें इस ड्रग का इस्तेमाल बचाव के लिए करें या संक्रमण के इलाज के तौर पर करें। 

जल्द शुरू होगा क्लीनिकल ट्रायल
mCBMs को तैयार करने फार्मा कंपनी न्यूमेजेन के चीफ एग्जीक्यूटिव डग्लस थॉम्पसन का कहना है कि रिसर्च के परिणाम सकारात्मक रहे हैं और यह ड्रग काफी कारगर साबित हुआ है। फार्मा कंपनी न्यूमेजेन इंग्लैंड की हेल्थ एजेंसी और ग्लासगो यूनिवर्सिटी के साथ भी काम कर रही है। जल्द ही इसके लिए क्लीनिकल ट्रायल शुरू किया जाएगा और नतीजे सकारात्मक मिलने पर मार्केट में उपलब्ध कराया जाएगा।

Related posts

तीज-त्योहार वाला सप्ताह: 7 से 13 फरवरी तक हर दिन रहेगा व्रत-पर्व, इस हफ्ते मौनी अमावस्या और गुप्त नवरात्र भी

Admin

नई खोज: पेंटागन के वैज्ञानिकों ने बनाई शरीर में लगने वाली माइक्रोचिप, यह वायरस को पहचानेगी, फिर खून से फिल्टर कर निकाल देगी

Admin

1 जुलाई का मूलांक 1 और भाग्यांक 3 है, ऑफिस में स्थान बदल सकता है, वरिष्ठ अधिकारियों की मदद मिल सकती है

News Blast

टिप्पणी दें