May 31, 2024 : 3:08 AM
Breaking News
लाइफस्टाइल

बच्चा भले ही कितना बड़ा हो जाए, अपनी मां से हमेशा नौ महीने छोटा ही रहता है

दैनिक भास्कर

May 10, 2020, 12:32 AM IST

कहते हैं कि हर बच्चा जब पैदा होता है तो उसकी पहली पुकार मां होती है। उसके रोने में, चीत्कारने में, उसकी हर हरकत में सिर्फ मां होती है। मां उसकी जननी के साथ वह प्रेरणा होती है जो ताउम्र एक बच्चे के साथ बनी रहती है। शायद इसीलिए समझदार कहते हैं कि बच्चा भले ही कितना बड़ा हो जाए, अपनी मां से हमेशा नौ महीने छोटा ही रहता है। गर्भ के उन नौ महीनों की पीड़ा तपस्या बनकर मां के महत्व को इतना बढ़ा देती है कि स्वयं ईश्वर भी नतमस्तक हो जाते हैं।  

कोरोना के संकट के बीच इस मदर्स डे पर मां को समर्पित कुछ विद्वानों के ऐसे शब्द जो मां के महत्व को बताते हैं और समझाते हैं कि इस रिश्ते से बड़ा कोई रिश्ता नहीं।

Related posts

आज का जीवन मंत्र:जब हमारे पास कोई बड़ा पद और अधिकार हो तो भ्रष्टाचार से बचना चाहिए

News Blast

2 अशुभ योग बनने से 6 राशियों के लिए ठीक नहीं है महीने का पहला दिन

News Blast

रूस का दावा क्लीनिकल ट्रायल में 100 फीसदी सफल रही वैक्सीन, सितम्बर से शुरू हो सकता है का उत्पादन; WHO ने कहा- इसकी सफलता पर यकीन करना मुश्किल

News Blast

टिप्पणी दें