June 15, 2024 : 5:21 PM
लाइफस्टाइल

कोरोनावायरस खून के थक्के जमाकर फेफड़ों को ब्लॉक कर सकता है, आयरलैंड के मरीजों पर स्टडी के बाद पता चला

  • शोधकर्ता के मुताबिक, कोविड-19 खास तरह का ब्लड क्लॉटिंग डिसऑर्डर की वजह बनता है जो सीधे तौर पर पहले फेफड़ों पर हमला करता है
  • यह फेफड़ों में 100 छोटे-छोटे ब्लॉकेज की वजह बन सकता है जो ऑक्सीजन का स्तर घटाते हैं और मौत का खतरा बढ़ाते हैं

दैनिक भास्कर

May 18, 2020, 04:48 PM IST

डबलिन. कोरोनावायरस शरीर में खून के थक्के जमाकर फेफड़ों को ब्लॉक कर सकता है। यह दावा आयरलैंड के डॉक्टरों ने किया है। कोरोना से पीड़ित 83 गंभीर मरीजों पर हुई स्टडी के दौरान वायरस का एक और खतरा सामने आया है। डबलिन के सेंट जेम्स हॉस्पिटल के डॉक्टरों का कहना है कि यह नया वायरस फेफड़ों में करीब 100 छोटे-छोटे ब्लॉकेज बना देता है जिससे शरीर में ऑक्सीजन का स्तर घट जाता है और मरीज की मौत भी हो सकती है। शोधकर्ता प्रो. जेम्स ओ-डोनेल का कहना है कि कोविड-19 एक खास तरह के ब्लड क्लॉटिंग डिसऑर्डर (खून के थक्के) की वजह बनता है जो सीधे तौर पर सबसे पहले फेफड़ों पर हमला करता है। 

पांच पाइंट में समझें कोरोना और खून के थक्कों का कनेक्शन

  • 1. करीब 80 फीसदी पहले से ही बीमारी से जूझ रहे थे

ब्रिटिश जर्नल ऑफ हिमेटोलॉजी में प्रकाशित रिसर्च के मुताबिक, 83 गंभीर मरीजों में 81 फीसदी यूरोपियन, 12 फीसदी एशियाई, 6 फीसदी अफ्रीकन और एक फीसदी स्पेनिश हैं। इन मरीजों की उम्र औसतन 64 साल थी और करीब 80 फीसदी पहले से किसी न किसी बीमारी से जूझ रहे थे। इनमें 60 फीसदी रिकवर हुए थे और 15.7 फीसदी मरीजों की मौत हो गई थी।

  • 2. थक्का जमाने वाले प्रोटीन का स्तर बढ़ा मिला

मरीजों में रक्त के थक्के कितनी जल्दी जमते हैं इसके लिए शोधकर्ताओं ने डी-डाइमर नाम के प्रोटीन के स्तर को चेक किया। डी-डाइमर एक ऐसा प्रोटीन है जो अगर शरीर में  ज्यादा होगा तो रक्त का थक्का जमने का खतरा उतना ही अधिक होगा। रिसर्च में शामिल मरीजों में डी-डाइमर सामान्य से अधिक मात्रा में मिला था। शोधकर्ताओं के मुताबिक, मरीजों के फेफड़ों के असामान्य ब्लड क्लॉटिंग के मामले दिखे जो छोटे-छोटे थक्के जमने की वजह बने थे। ऐसे मरीजों को सीधे आईसीयू में भर्ती किया गया।

  • 3. हाई रिस्क मरीजों में थक्के के मामले अधिक

शोधकर्ता प्रो. जेम्स ओ-डोनेल के मुताबिक, निमोनिया भी फेफड़ों को प्रभावित करता है लेकिन कोरोना के मरीजों में जिस तरह का संक्रमण फेफड़ों में दिख रहा है वैसा दूसरे संक्रमण में नहीं देखा गया। फेफड़ों में जमने वाले इन छोटे-छोटे थक्कों को समझने की कोशिश की जा रही है ताकि बेहतर इलाज किया जा सके। इसके मामले उन मरीजों में ज्यादा दिखे हैं जो पहले से हाई-रिस्क जोन में हैं यानी जिनकी उम्र अधिक है और जिन्हें पहले से कोई गंभीर बीमारी हैं। 

  • 4. थक्के हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा बढ़ाते हैं

यह रिसर्च अमेरिकी विशेषज्ञों की एक हेल्थ रिपोर्ट के बाद आई है, जिसमें कहा गया था कोरोना पीड़ितों की सर्वाधिक मौत की वजह शरीर में खून में थक्के जमना था। हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होने वाले मरीजों में भी ऐसा दिखा गया था। एक अन्य रिसर्च में यह सामने आया कि ऐसे मरीजों में अनियंत्रित रक्त के थक्के हार्ट अटैक और स्ट्रोक के मामले भी बढ़ाते हैं। 

  • 5. चीनी लोगों में ऐसे मामले कम

शोधकर्ताओं का कहना है कि चीनी लोगों में आनुवांशिक भिन्नताओं  के कारण उनमें रक्त के थक्के जमने के मामले काफी कम होते हैं। यही वजह है कि चीन के मुकाबले यूरोप और अमेरिका में कोरोना के काफी गंभीर मामले सामने आए हैं।

Related posts

ट्रिटमेंट के दौरान कैमिकल से कर्नल की पत्नी के बाल जले, सलून संचालक-मैनेजर सहित तीन पर केस

News Blast

इस्कॉन के प्रमुख गुरु भक्तिचारू स्वामी का अमेरिका में कोरोना से निधन, वे इस्कॉन की सबसे प्रमुख कमेटी के गवर्निंग बॉडी कमिश्नर थे

News Blast

भारत के विभिन्न राज्यों में अलग-अलग तरीके से मनाई जाती है मकर संक्रांति, जानें इनके तरीके

News Blast

टिप्पणी दें