July 16, 2024 : 2:07 AM
Breaking News
MP UP ,CG Other अन्तर्राष्ट्रीय करीयर क्राइम खबरें खेल टेक एंड ऑटो ताज़ा खबर मनोरंजन महाराष्ट्र राज्य

भोजशाला सरस्वती मंदिर, यहां नमाज रोकें… हाईकोर्ट ने याचिका पर केंद्र समेत 8 लोगों को दिया नोटिस, जानें क्या है विवाद

धार : पूरे देश में ताजमहल और ज्ञानवापी मस्जिद का मुद्दा गरमाया हुआ है। यह अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि धार में भोजशाला का विवाद (Bhojshala controversy update) कोर्ट के दरवाजे पर पहुंच गया है। एमपी हाईकोर्ट की इंदौर पीठ ने इस याचिका को स्वीकार कर लिया है। याचिकाकर्ता ने कहा है कि भोजशाला सरस्वती मंदिर है, यहां मुस्लिमों को नमाज पढ़ने (stop namaz in bhojshala campus) से रोकें। हाईकोर्ट की इंदौर पीठ ने याचिका स्वीकार कर आठ लोगों को नोटिस जारी किया है। इसमें केंद्र सरकार भी शामिल है।

दरअसल, धार स्थित भोजशाला का विवाद लंबे समय से चला आ रहा है। मगर हर सरस्वती पूजा के अवसर पर दोनों समुदाय के लोग सांप्रदायिक सौहार्द की शानदार मिसाल पेश करते हैं। एक तरफ मां सरस्वती की पूजा होती है तो दूसरी तरफ अजान होती है। दोनों धर्म के लोगों एक-दूसरे की मदद करते हैं। इसी बीच एक हिंदू संगठन ने हाईकोर्ट की इंदौर पीठ में एक याचिका दायर की है। इसे हाईकोर्ट ने स्वीकार कर लिया है।

हिंदू फ्रंट फॉर जस्टिस ने याचिका दायर कर मांग की है कि भोजशाला में सरस्वती प्रतिमा फिर से स्थापित की जाए। साथ ही पूरे भोजशाला की कलर फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी की जाए। इसके साथ ही भोजशाला में नमाज पढ़ने से रोक लगाई जाए। याचिका दायर करने वाले वकील हरिशंकर जैन ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि सरस्वती मंदिर पहले उन लोगों ने मजार बनाई है। इसके बाद दावा करने लगने कि यह कमाल मौला मस्जिद है। हिंदू पक्ष ने यह भी दावा किया है कि यहां राजा भोज ने सरस्वती सदन का निर्माण कराया था। उस समय यह शिक्षा का बड़ा केंद्र हुआ करता था।बाद में यहां मुस्लिम समाज के लोगों को नमाज के लिए अनुमति दी गई थी क्योंकि यह इमारत बेकार पड़ी थी। इसी परिसर में मुस्लिम धर्म गुरु कमाल मौलाना की दरगाह है। इसकी वजह से मुस्लिम समाज के लोग लंबे समय से यहां नमाज अदा करते रहे हैं। इसके बाद मुस्लिम संगठन यह दावा करने लगा है कि यह कमाल मौलाना की मस्जिद है। अब इन्हीं दावों का खारिज करने के लिए हिंदू संगठनों ने इंदौर हाईकोर्ट में याचिका लगाई है।

आठ लोगों को कोर्ट ने जारी किया नोटिस
हाईकोर्ट की इंदौर पीठ ने याचिका स्वीकार कर लिया है। इसके बाद कोर्ट ने केंद्र सरकार, राज्य सरकार, आर्केलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया, एमपी पुरातत्व विभाग, धार कलेक्टर, एसपी, मौलाना कमाल वेलफेयर सोसाइटी और भोजशाला समिति को नोटिस जारी किया है।

Related posts

एबी डीविलियर्स को छठे नंबर भेजने पर कोहली ने दी सफाई कहा- हम दाएं और बाएं हाथ के बल्लेबाजों के साथ खेलना चाह रहे थे; लेकिन यह सही साबित नहीं हुआ

News Blast

अमेरिका में फायरिंग: इलिनॉय के स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में शूटर ने खुलेआम गोलियां बरसाईं, 3 लोगों की जान गई

Admin

मेहुल चाेकसी विवाद:डोमिनिका के प्रधानमंत्री रूजवेल्ट ने कहा- मेहुल चाेकसी को अगवा करने की साजिश में हमारी सरकार का कोई हाथ नहीं

News Blast

टिप्पणी दें