July 16, 2024 : 2:32 AM
Breaking News
MP UP ,CG अन्तर्राष्ट्रीय करीयर क्राइम खबरें खेल टेक एंड ऑटो ताज़ा खबर बिज़नेस ब्लॉग मनोरंजन महाराष्ट्र राज्य राष्ट्रीय लाइफस्टाइल हेल्थ

2 बच्चों के पिता ने नर्स को मारी गोली, फिर पहुंचा थाने, बोला- साहब! गिरफ्तार कर लीजिए

Bhind Big Crime: मध्य प्रदेश के भिंड जिला अस्पताल में गुरुवार शाम हड़कंप मच गया. अस्पताल के वॉर्ड बॉय रितेश शाक्य ने यहां तैनात स्टाफ नर्स नेहा चंदेल को गोली मार दी. नेहा जहां बैठी थी, वहीं ढेर हो गई, क्योंकि आरोपी ने उसकी कनपटी पर गोली मारी थी. हत्या के एक घंटे बाद आरोपी ने पुलिस के सामने सरेंडर भी कर दिया. पुलिस को आशंका है कि ये हत्या एकतरफा प्यार में की गई है. आरोपी दो बच्चों का पिता बताया जा रहा है. ये बात भी पता चली है कि नेहा की इसी महीने शादी थी, लेकिन किसी कारण रद्द कर दी गई.

ग्वालियर/भिंड. मध्य प्रदेश के भिंड जिला अस्पताल में गुरुवार शाम उस वक्त हड़कंप मच गया जब वॉर्ड बॉय ने यहां तैनात स्टाफ नर्स को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया. अस्पताल के वॉर्ड बॉय रितेश शाक्य ने नर्स नेहा चंदेल को गोली मार दी. उसको मौत के घाट उतारने के बाद रितेश ने हत्या में इस्तेमाल कट्टे के साथ थाने में सरेंडर कर दिया. पुलिस को आशंका है कि रितेश ने एक तरफा प्यार के चलते वारदात को अंजाम दिया.अस्पताल से मिली जानकारी के मुताबिक, भिंड जिला अस्पताल में नेहा स्टोर इंचार्ज थी. वह मंडला की रहने वाली थी. वह भिंड की हाउसिंग कॉलोनी में रहती थी. नेहा गुरुवार शाम को भी जिला अस्पताल के स्टोर में ही थी. उसी दौरान वॉर्ड बॉय रितेश ने नेहा की कनपटी पर गोली मार दी. गोली लगते ही वह कुर्सी पर ढेर हो गई. घटना की खबर लगते ही अस्पताल में हड़कंप मच गया.बताया जाता है कि वारदात के करीब एक घंटे बाद रितेश शाक्य ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया. रितेश नर्स से 5 साल बड़ा है और 2 बच्चों का पिता बताया जा रहा है. मंडला निवासी नर्स नेहा चंदेल की हत्या के मामले में पुलिस को प्रेम-प्रसंग की आशंका नजर आ रही है. पुलिस का मानना है कि एकतरफा प्रेम के चलते वारदात को अंजाम दिया गया है. पुलिस के मुताबिक नेहा की इसी महीने फरवरी में शादी होने वाली थी. लेकिन, किन्हीं कारणों से स्थगित हो गई. पुलिस ने घटनास्थल से मोबाइल भी जब्त किया है.भिंड जिला अस्पताल में पहले भी कई घटनाएं हुई हैं. सात साल पहले लेबर वार्ड में फायरिंग हुई थी, इसके अलावा कई बार अटेंडर के गुस्से का शिकार नर्सों को होना पड़ा है. भोपाल की रहने वाली नादमा सात साल पहले भिंड के जिला अस्पताल में पदस्थ हुई है. वो कहती हैं- जब मैं यहां पदस्थ हुई तो उस समय लेबर रूम में फायरिंग हुई. इस घटना के बाद मैं डर गई. जिला अस्पताल में रहने तक के लिए हॉस्टल नहीं है. ऐसे में किराए से कमरा लेकर रहना होता है. मेरे साथ कोई वारदात न हो, इसलिए साथ में हमेशा एक चाकू और मर्ची पेपर स्प्रे लेकर चलती हूं. नर्स का कहना है कि यहां पदस्थ दो सौ से अधिक नर्सें दूसरे जिले की हैं. जिनमें कई नर्सें अपनी सुरक्षा के लिए चाकू और मर्ची पेपर स्प्रे लेकर आती हैं.

Related posts

एयरटेल ने शिक्षा क्षेत्र की स्टार्टअप कंपनी ‘लट्टू मीडिया’ में खरीदी 10 फीसदी की हिस्सेदारी

News Blast

Career Guidance: महिलाओं के लिए ये हैं बेस्ट करियर ऑप्शन, मिल सकती है लाखों में सैलरी

News Blast

हत्या के बाद नेपाल भाग रहे चारों आरोपी लखीमपुर खीरी से अरेस्ट, ज्वैलरी बरामद

News Blast

टिप्पणी दें