August 17, 2022 : 10:05 PM
Breaking News
राष्ट्रीय

बाबरी कांड पर पूर्व PM के सलाहकार का बड़ा खुलासा: डॉ. ख्वाजा इफ्तिखार ने अपनी किताब में लिखा, अगर बातचीत से समाधान होता तो मुसलमानों को बहुत कुछ मिल सकता था; PM मोदी की तारीफ भी की

[ad_1]

गाजियाबादएक घंटा पहले

कॉपी लिंककेंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी को पुस्तक भेंट करते पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा के सलाहकार रहे डॉ. ख्वाजा इफ्तिखार अहमद। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी को पुस्तक भेंट करते पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा के सलाहकार रहे डॉ. ख्वाजा इफ्तिखार अहमद। (फाइल फोटो)

आज गाजियाबाद में संघ प्रमुख मोहन भागवत करेंगे पुस्तक का विचोचन।

पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव के सलाहकार रहे डॉ. ख्वाजा इफ्तिखार ने अपनी किताब ‘वैचारिक समन्वय-एक व्यावहारिक पहल’ में अयोध्या-बाबरी विवाद पर बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने लिखा है कि अगर नेता और बुद्धिजीवी सही तरीके से इसपर बातचीत करते तो ये विवाद पहले ही शांत हो गया होता। उन्होंने लिखा है कि अगर बातचीत से इसका समाधान निकलता तो मुसलमानों को बहुत कुछ मिल सकता था। डॉ. इफ्तिखार अयोध्या के राम मंदिर विवाद में बनाई गई अटल हिमायत कमेटी के महत्वपूर्ण सदस्य भी रहे हैं। डॉ. ख्वाजा इफ्तिखार की इस किताब का आज RSS प्रमुख मोहन भागवत गाजियाबाद में विमोचन करेंगे। वसुंधरा स्थित मेवाड़ इन्सटीट्यूट में इसके लिए कार्यक्रम का आयोजन होगा।

क्या-क्या है किताब में ?

किताब में पिछले 100 साल (1920-2020) के अंदर देश में हुई घटनाओं का जिक्र किया गया है।किताब में राम जन्मभूमि विवाद का भी किस्सा है। बताया गया है कि कैसे देश के मुस्लिमों ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश को स्वीकारा।पूर्व पीएम राजीव गांधी, पूर्व पीएम पीवी नरसिम्हा राव के उस वक्त लिए गए फैसलों का उदाहरण दिया गया है।

पीएम मोदी की तारीफ

डॉ. इफ्तिखार ने अपनी किताब में RSS को वैचारिक संगठन बताया है। लिखा है कि इसका प्रभाव काफी बड़ा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ भी की गई है। एक पैराग्राफ में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का जिक्र करते हुए बताया गया है कि AMU को कट्टरवादी लोग निशाना बनाते रहे हैं, लेकिन इसकी स्थापना के 100 साल पूरे होने पर ऑनलाइन कार्यक्रम में PM नरेंद्र मोदी ने शिरकत करके उन्हें करारा जवाब दिया है।

डॉ. ख्वाजा इफ्तिखार अहमद की लिखी पुस्तक।

डॉ. ख्वाजा इफ्तिखार अहमद की लिखी पुस्तक।

विमोचन से पहले देश के 500 लोगों तक पहुंची पुस्तकपुस्तक का विमोचन पूर्व में दिल्ली के विज्ञान भवन में होना था। कोरोना के चलते कार्यक्रम टल गया। अब इसके लिए गाजियाबाद को चुना गया। यह कार्यक्रम 4 जुलाई की शाम 5 से 7 बजे तक होगा। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के बैनर तले होने वाले इस कार्यक्रम में सिर्फ 30-40 महत्वपूर्ण लोग मौजूद रहेंगे। हिंदी, अंग्रेजी व उर्दू में लिखी गई यह पुस्तक विमोचन से पूर्व देशभर के 500 धर्मगुरुओं, शिक्षाविदों और मुस्लिम समाज के प्रभावी लोगों तक पहुंच गई है। RSS के मुताबिक, यह पुस्तक मुस्लिम समाज के हर प्रभावी व्यक्ति तक पहुंचाने की कोशिश होगी।

इंद्रेश बोले- समस्या समाधान को टकराव नहीं, संवाद जरूरी

जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल को पुस्तक भेंट करते मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के प्रमुख इंद्रेश कुमार।

जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल को पुस्तक भेंट करते मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के प्रमुख इंद्रेश कुमार।

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के प्रमुख इंद्रेश कुमार ने इस किताब के बारे में अपने फेसबुक पेज पर लिखा- ‘अनेक वर्षों से कट्टरपंथी व राजनीतिक द्वेष वाले नेताओं ने मुसलमानों को यह समझाया है कि RSS-BJP उनके दुश्मन हैं, लेकिन ऐसा नहीं है’। यह पुस्तक इस बात का आह्वान करेगी कि RSS-BJP से नफरत नहीं, संवाद करेंगे। फसाद नहीं, भाईचारा लाएंगे। इंद्रेश कुमार ने यह भी कहा कि समस्याओं के समाधान के लिए भयानक आलोचना और टकराव नहीं, बल्कि सौहार्दपूर्ण संवाद जरूरी है।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Related posts

दंगे फैलाने के लिए चरमपंथी संगठन PFI को 100 करोड़ का फंड मिला था, इसमें से 50 करोड़ मॉरिशस से आए; 4 कार्यकर्ता 14 दिन की हिरासत में

News Blast

चीनी सैनिकों के साथ झड़प में शहीद कर्नल संतोष बाबू बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर थे, 18 महीने से लद्दाख में तैनात थे

News Blast

चंफाई से 31 किमी दूर भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 4.1 तीव्रता मापी गई

News Blast

टिप्पणी दें